Product Filter

Philosophy (दर्शन शास्त्र)

Philosophy (दर्शन शास्त्र)

Philosophy (Darśanaśāstra) is that knowledge which discusses the ultimate truth and principles, and their causes. Philosophy is an approach to the examination of reality. Philosophical thinking is basically synonymous with the search for the meaning of life. In fact, philosophy is the science of the general laws of self and society and the process of human thought and cognition. Philosophy is one of the forms of social consciousness.
Philosophy is the name of the discipline which seeks truth and knowledge. Philosophy in the broadest sense is the art of logical, methodical and systematic thought. It is born according to experience and circumstance. This is the reason that different people of the world have adopted different types of life philosophy from time to time according to their experiences and circumstances.
दर्शनशास्त्र (Darśanaśāstra) वह ज्ञान है जो परम् सत्य और सिद्धान्तों, और उनके कारणों की विवेचना करता है। दर्शन यथार्थ की परख के लिये एक दृष्टिकोण है। दार्शनिक चिन्तन मूलतः जीवन की अर्थवत्ता की खोज का पर्याय है। वस्तुतः दर्शनशास्त्र स्वत्व, तथा समाज और मानव चिंतन तथा संज्ञान की प्रक्रिया के सामान्य नियमों का विज्ञान है। दर्शनशास्त्र सामाजिक चेतना के रूपों में से एक है।
दर्शन उस विद्या का नाम है जो सत्य एवं ज्ञान की खोज करता है। व्यापक अर्थ में दर्शन, तर्कपूर्ण, विधिपूर्वक एवं क्रमबद्ध विचार की कला है। इसका जन्म अनुभव एवं परिस्थिति के अनुसार होता है। यही कारण है कि संसार के भिन्न-भिन्न व्यक्तियों ने समय-समय पर अपने-अपने अनुभवों एवं परिस्थितियों के अनुसार भिन्न-भिन्न प्रकार के जीवन-दर्शन को अपनाया।

Showing 1–16 of 77 results

Sort by:
View:
Back to top